6.10.13

Computers running safety of your eyes

 
तकनीक के इस दौर में आज कोई ऐसा कोई काम नहीं है जो कंप्यूटर के
बिना हो सके.कंप्यूटर से जहाँ हमें बहुत से फायदे हैं वहां कुछ नुकसान भी
है.इसका ज्यादा इस्तेमाल स्वास्थ्य के लिए नुकसानदेह है.इसका सबसे
ज्यादा प्रभाव हमारी आँखों पर पड़ता है.जिससे आँखों की रौशनी कम हो जाना,
सिरदर्द,अनिद्रा आदि समस्याएँ पैदा हो जाती है.लेकिन अगर कुछ बातों का
ध्यान रखा जाये तो इन समस्याओं से बहुत हद तक बच सकते है.


अगर हो सके तो पुराने CRT मोनिटर की जगह LCD मोनिटर का इस्तेमाल
करें.LCD मोनिटर आँखों को कम नुकसान पहुंचाते हैं.इसके साथ ही बिजली
की खपत भी कम करते है.

मोनिटर और आँखों के बीच कम से कम 18 इंच की दूरी जरूर होनी चाहिए.  मोनिटर स्क्रीन पर अतिरिक्त स्क्रीन लगायें. कंप्यूटर पर लगातार काम करते समय हर 1 घंटे में थोडा ब्रेक लें और
एक ग्लास ठंडा पानी पियें व ठन्डे पानी से आँखों को धोएं. बिलकुल अँधेरे कमरे में कंप्यूटर पर काम न करें.

कमरे की लाईट की रौशनी सीधे मोनिटर स्क्रीन पर नहीं पड़नी चाहिए. कंप्यूटर पर काम करते समय ज्यादा छोटे फॉण्ट का इस्तेमाल न करें.

कंप्यूटर पर काम करते समय हमारी पलकें झपकाने की गति सामान्य
से बहुत कम हो जाती है.इसलिए एक साथ टिकटिकी लगाकर ना देखें
बल्कि पलकें झपकाते रहें.

मोनिटर आँखों से ऊपर नहीं होना चाहिए.अपनी बैठने की कुर्सी इस तरह
सेट करें कि आँखें बिलकुल मोनिटर के सामने हो. जहाँ तक हो सके रात को देर तक इन्टरनेट सर्फिंग ना करें.